‘विंडीज के खौफनाक गेंदबाजों की याद दिलाते हैं मौजूदा टीम इंडिया के पेसर’


  • वेस्टइंडीज के पूर्व तेज गेंदबाज बिशप ने जताई प्रतिक्रिया
  • ‘भारत के पास अभी सबसे खौफनाक तेज गेंदबाजी इकाई’

इयान बिशप ने मौजूदा भारतीय तेज गेंदबाजी आक्रमण की तुलना कैरबियाई टीम के पूर्व के खौफनाक तेज गेंदबाजों से करते हुए कहा कि विदेशों में सफल होने की इच्छा से ही भारत लगातार खतरनाक तेज गेंदबाजों को तैयार कर रहा है. वेस्टइंडीज के पूर्व तेज गेंदबाज बिशप ने कहा कि इसकी शुरुआत जहीर खान, आरपी सिंह, मुनाफ पटेल से हुई जो कपिल देव और जवागल श्रीनाथ के नक्शेकदमों पर आगे बढ़े.

बिशप ने ‘क्रिकबज’ से कहा, ‘यह संभवत: भारत में तेज गेंदबाजी की प्रतिभाओं की सर्वश्रेष्ठ पीढ़ी है और इसकी शुरुआत कुछ समय पहले हुई थी.’ बिशप ने कहा, ‘हम जहीर, आरपी सिंह, मुनाफ पटेल और उस दौर के कुछ गेंदबाजों से शुरुआत मान सकते हैं जो कपिल देव का अनुसरण करने वाले श्रीनाथ के बाद आए. यह देखकर बहुत अच्छा लगता है.’ जसप्रीत बुमराह की अगुवाई में भारत के पास अभी सबसे खौफनाक तेज गेंदबाजी इकाई है. मोहम्मद शमी, भुवनेश्वर कुमार, उमेश यादव और ईशांत शर्मा आक्रमण में विविधता पैदा करते हैं.

बिशप ने कहा, ‘बाहर से देखने पर मुझे ऐसा लगता है कि भारत यह समझ गया कि बल्लेबाज अच्छे हैं, लेकिन अगर हमें विदेशों में जीत दर्ज करनी है तो हमें एमआरएफ पेस फाउंडेशन और एनसीए (राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी) से भी खिलाड़ी लेने होंगे. इन तेज गेंदबाजों को बढ़ावा देने के लिए सपाट और टर्निंग पिचें बनाने के बजाय तेज गेंदबाजों के अनुकूल पिचें बनानी होंगी.’

ये भी पढ़ें … T20 वर्ल्ड कप का 2022 तक टलना तय, कल ICC की बैठक में हो सकता है ऐलान

वेस्टइंडीज की तरफ से 43 टेस्ट मैचों में 161 विकेट लेने वाले बिशप ने कहा कि वर्तमान भारतीय गेंदबाजी इकाई उन्हें वेस्टइंडीज के उस तेज गेंदबाजी आक्रमण की याद दिलाती है, जिसमें एंडी रॉबर्ट्स, माइकल होल्डिंग, जोएल गार्नर, मैल्कम मार्शल और कॉलिन क्रॉफ्ट शामिल थे. बिशप ने कहा, ‘और अब जबकि आपके पास तीन तेज गेंदबाज और कुछ अवसरों पर चार तेज गेंदबाज और एक स्पिनर होता है तो मुझे तब मेरी पीढ़ी से पहले की कैरेबियाई तेज गेंदबाजी की चौकड़ी की याद आती है, जिसमें मार्शल, होल्डिंग, गार्नर, रॉबर्ट्स थे. मैं इनमें कॉलिन क्रॉफ्ट को भी शामिल करूंगा.’

बिशप ने कहा कि जब उन्होंने जसप्रीत बुमराह को पहली बार देखा तो वह उन्हें तेज गेंदबाज के मानदंडों पर फिट नहीं लगे थे. उन्होंने कहा, ‘तेज गेंदबाजों के बारे में मेरा यहीं मानना था कि जिनका लंबा और प्रवाहमय रन अप हो जैसे वेस हॉल, सर रिचर्ड हैडली, डेनिस लिली, मार्शल और होल्डिंग का. जसप्रीत उसके ठीक विपरीत था. उसका रनअप छोटा था और उसमें प्रवाह नहीं था.’

बिशप ने कहा, ‘आज तक मैं हैरान हूं कि उसकी गेंदों में तेजी कहां से आती है. और वह बेहद कुशल गेंदबाज है. उदाहरण के लिए जिस तरह से उसने कैरेबियाई मैदानों पर गेंद स्विंग कराई, वह जिस तेज गति से गेंद करता है और तब भी उस पर नियंत्रण बनाए रखता है. वह प्रतिभाशाली है. अगर वह फिट बने रहता है, तो फिर वह संपूर्ण गेंदबाज है.’

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें

  • Aajtak Android App
  • Aajtak Android IOS





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *