गांव पहुंचे 3 मजदूरों को नहीं मिली एंट्री, सड़क पर सोने के दौरान ट्रक ने कुचला


  • जैसलमेर से गांव पहुंचे तो ग्रामीणों ने घुसने नहीं दिया
  • ट्रक ने तीनों को कुचला, हादसे के बाद चालक फरार

एक दंपति समेत 3 मजदूर जैसलमेर से जब उज्जैन स्थित अपने गांव पहुंचे तो ग्रामीणों ने उन्हें कथित रूप से गांव में घुसने से ही मना कर दिया. मजबूरन उन्हें गांव के बाहर सड़क पर ही रात गुजारनी पड़ी, लेकिन बुधवार सुबह एक तेज रफ्तार ट्रक ने सो रहे इन तीनों को कुचल दिया. तीनों की इस हादसे में मौत हो गई.

कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए देश में इस समय 40 दिन का लॉकडाउन है, लेकिन कामकाज बंद होने और खाने-पीने का सामान नहीं होने की स्थिति में बड़ी संख्या में प्रवासी लोग जैसे-तैसे भूखे-प्यासे किसी तरह अपने पैतृक घर पहुंचने के लिए निकलने को मजबूर हो रहे हैं.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

लेकिन गांव पहुंचकर भी उन्हें किसी तरह की राहत नसीब नहीं हो रही है. उज्जैन में अपने गांव पहुंचे 3 लोगों को गांव में घूसने नहीं दिया गया, बाद में गांव से कुछ दूरी पर उनकी सड़क हादसे में मौत हो गई.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें…

ग्रामीणों पर आरोप

मृतकों की पहचान विक्रम सिंह (65 साल), पत्नी भूरी भाई (55 साल) और बद्री बंजारा (50 साल) के रूप में की गई है. स्थानीय लोगों पर आरोप है कि तीनों मजदूर मंगलवार शाम को उज्जैन में अपने गांव मोहनपुरा पहुंचे लेकिन कोरोना वायरस के कहर से डरे ग्रामीणों ने कथित तौर पर उन्हें गांव के अंदर घूसने नहीं दिया.

इसके बाद तीनों उज्जैन मेडिकल कॉलेज की ओर चल दिए जहां वे अपना कोरोना टेस्ट करवाना चाहते थे. लेकिन उनका टेस्ट नहीं कराया जा सका क्योंकि काफी देर हो चुकी थी. इस कारण वे तीनों मजबूरन उज्जैन में उनहेल रोड पर भैरूगढ़ के पास सड़क किनारे आराम करने लगे.

ट्रक ने कुचल दिया

पुलिस के अनुसार तीनों सड़क पर सो रहे थे, जब सुबह एक तेज रफ्तार से आ रही ट्रक ने उन्हें कुचल दिया. हादसे के बाद ट्रक चालक मौके से फरार हो गया.

इसे भी पढ़ें— क्रिकेटर से एक्टर तक ऐसा रहा इरफान खान का सफर, यहां से की पढ़ाई

पुलिस ने ट्रक को जब्त कर लिया है और पुलिस ने ग्रामीणों पर आरोप लगाया कि उन्होंने तीनों को गांव के अंदर प्रवेश नहीं करने दिया. अब इस मामले की जांच की जा रही है. हालांकि अपने गांव से कुछ किलोमीटर दूर शहर में तीनों सड़क के किनारे क्यों सो रहे थे, इस सवाल का जवाब पुलिस के पास नहीं था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें

  • Aajtak Android App
  • Aajtak Android IOS





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *