लॉकडाउन में गाजीपुर के किसान का कमाल, हरी सब्जियां पहुंची इंग्लैंड


  • 15 क्विंटल हरी मिर्च, 5 क्विंटल लौकी का डिमांड
  • गाजीपुर से दिल्ली तक AC वाहन में आई सब्जियां

पूरे देश में लॉकडाउन की वजह से लोग अपने घरों में कैद हैं. किसनों की फसलें उनके खेतों में पड़ी हुई हैं या फिर प्रशासन की मदद से मंडियों तक पहुंच पा रही हैं फिर भी उसका उचित मूल्य नहीं मिल पा रहा है. तो वहीं यूपी के गाजीपुर जिले के एक किसान की मिर्च और लौकी सात समुंदर पार यानी इंग्लैंड तक पहुंच चुकी है.

यह कारनामा हुआ है वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय नई दिल्ली एपीडा के द्वारा जिसने गाजीपुर के खेतों में पैदा हुई 15 क्विंटल (1500 किलोग्राम) हरी मिर्च और 5 क्विंटल (500 किलोग्राम) लौकी की डिमांड की थी. इतना ही नहीं इन सभी चीजों को गाजीपुर से नई दिल्ली तक पहुंचाने के लिए वातानुकूलित वाहन की भी व्यवस्था की गई.

जिला गाजीपुर के भावर कोल ब्लॉक के लोचाइन गांव के रहने वाले जितेंद्र राय एक जागरूक किसान हैं. जितेंद्र परंपरागत खेती को वैज्ञानिक तरीकों से और मानक के अनुसार अपनी पैदावार को गांव की मंडियों तक ही नहीं बल्कि इंग्लैंड तक भेज कर ना सिर्फ अपने गांव का बल्कि पूरे जिले का भी नाम रोशन किया है.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

हरी सब्जी की डिमांड

वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय नई दिल्ली ने 21 अप्रैल को वाराणसी के मंडलायुक्त दीपक अग्रवाल को एक पत्र लिखा जिसमें उन्होंने गाजीपुर की 1,500 किलो हरी और ताजी मिर्च तथा 500 किलो ताजी लौकी की डिमांड की थी.

ये सब्जियां नई दिल्ली एयरपोर्ट से लंदन कार्गो तक जाना था जिसके लिए एपीडा ने वातानुकूलित वाहन की भी व्यवस्था की और यह वाहन गाजीपुर मुख्यालय से 40 किलोमीटर दूर भांवरकोल के लोचईन गांव पहुंचकर 3 दिन पहले जितेंद्र राय के खेतों की लौकी और हरी मिर्च को लेकर दिल्ली तक पहुंचाया जो अब इंग्लैंड पहुंच चुका है.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें…

अपनी शानदार खेती और उपलब्धि के बारे में किसान जितेंद्र राय ने बताया कि इसके पहले भी वह कई बार कार्गो के माध्यम से अपने खेतों के टमाटर, मिर्च और मटर खाड़ी देशों में भेज चुके हैं.

उन्होंने बताया कि इसके लिए मंत्रालय के द्वारा एक मानक तय किया गया है और उसी मानक के आधार पर इन सब्जियों की एक्सपोर्ट क्वालिटी देखकर कार्गो तक भेजा जाता है, साथ ही उन्होंने बताया कि इन सब्जियों का रेट जिले की मंडियों के रेट का डबल मिल जाता है. उन्होंने बताया कि अगली खेप का ऑर्डर भी जल्द ही मिलने वाला है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें

  • Aajtak Android App
  • Aajtak Android IOS





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *